0183 221 4244 info@amritsarcustoms.gov.in

Whats New...

पाकिस्तान से / के
यात्रियों के लिए
महत्वपूर्ण सूचना >>

सीमा शुल्क कैलक्यूलेटर

और ज्यादा खोजें

बजट आर्थिक सर्वेक्षण

और ज्यादा खोजें

सीमा शुल्क निवारक आयुक्तालय अमृतसर

इस आयुक्तालय का क्षेत्रीय एवं प्रशासनिक क्षेत्राधिकार पंजाब और जम्मू कश्मीर राज्यों की अंतर्राष्ट्रीय सीमाओं पर तस्करी-रोधी (सीमा शुल्क निवारक कार्य) कार्यो का किया जाना है। इस आयुक्तालय का मुख्यालय अमृतसर जैसे पवित्र शहर में है, जिसकी स्थापना सिक्खों के चौथे गुरु गुरु रामदास जी ने 1577 में की थी अमृतसर अपने नाम के लिए विख्यात है – अमृत का सरोवर यहाँ पर सिक्खों का पवित्रतम और विश्व का प्रसिद्ध गुरुद्वारा स्वर्ण मंदिर है। स्वर्ण मंदिर केवल सिक्खों के लिए ही नहीं अपितु हिंदुओ के लिए भी विश्व बंधुत्व शान और एकता का प्रतीक है। इसके अतिरिक्त अमृतसर शहर जलियांवाला बाग और 16वीं शताब्दी में बने दुर्ग्याणा मंदिर के लिए भी प्रसिद्ध है।

दिनांक 09.07.1997 को जारी अधिसूचना संख्या 20/97-सी.शु.(एनटी) के अनुपालन में तत्कालीन सीमा शुल्क एवं केंद्रीय उत्पाद शुल्क, चण्डीगढ़ के आयुक्तालय का केंद्रीय उत्पाद शुल्क आयुक्तालय चण्डीगढ़-।, चण्डीगढ़-।। और सीमा शुल्क आयुक्तालय, अमृतसर में तीन भागों में विभाजन के पश्चात् सीमा शुल्क (निवारक) आयुक्तालय, अमृतसर 16 जुलाई, 1997 को अस्तित्व में आया और श्री डी.एस. सरा इस आयुक्तालय के प्रथम आयुक्त थे। वर्तमान में श्री दीपक कुमार गुप्ता, सीमा शुल्क आयुक्तालय के आयुक्त हैं, जिन्होंने 26.07.2017 में पदभार ग्रहण किया।

उपरोक्त के अतिरिक्त, यह आयुक्तालय श्री गुरूरामदास जी अंतर्राष्ट्रीय हवाईपत्तन, भूमि सीमा शुल्क स्टेशन, अटारी और भूमि सीमा शुल्क स्टेशन, अटारी रेल पर यात्रियों की और रेल कारगो अमृतसर स्टेशन पर स्थित अंतर्देशीय कंटेनर डिपुओं/कंटेनर फ्रेट स्टेशनों पर सामान के आयात/निर्यात की आवाजाही पर कार्यवाही करता है। करना था।

वित्त मंत्रालय, भारत सरकार की दिनांक 16 सितम्बर, 2014 को जारी अधिसूचना संख्या 78/2014 सीमा शुल्क (एनटी) के अनुपालन में तत्कालीन सीमा शुल्क (निवारक) आयुक्तालय, अमृतसर को दो भागों में विभाजित किया गया है।इस अधिसूचना के तहत सीमा शुल्क आयुक्तालय, लुधियाना और सीमा शुल्क (निवारक) आयुक्तालय, अमृतसर का गठन किया गया। वित्त मंत्रालय, भारत सरकार की दिनांक 13.04.2017 को जारी अधिसूचना संख्या 38/2017 (एनटी) के अनुसार सीमा शुल्क आयुक्तालय, अमृतसर का पुनर्गठन किया गया, जिसके तहत सीमा शुल्क आयुक्तालय, लुधियाना और सीमा शुल्क (निवारक) आयुक्तालय, अमृतसर को मुख्य आयुक्त, सीमा शुल्क (निवारक) दिल्ली जोन के क्षेत्राधिकार में लाया गया।धिकार है।

दिनांक 15.01.2018 को जारी अधिसूचना संख्या 82/2017(एन.टी.) के अनुसार सीमा शुल्क (निवारक) आयुक्तालय, अमृतसर के क्षेत्राधिकार में संशोधन करते हुए पंजाब के कुछ जिले जैसे पठानकोट, गुरदासपुर, फिरोजपुर, अमृतसर, तरन-तारण, फाजिल्का और जम्मू-कश्मीर राज्यों को सीमा शुल्क (निवारक) आयुक्तालय, अमृतसर के अधीन लाए गए।

आई.सी.पी. अट्टारी, श्री गुरूरामदास जी अंतर्राष्ट्रीय हवाईपत्तन, सी.एस.एफ. छहरटा, भूमि सीमा शुल्क स्टेशन, अटारी रेल और रेल कारगो, अमृतसर और पंजाब राज्य में पठानकोट, गुरदासपुर, अमृतसर, तरन-तारण और फाजिल्का में पड़ने वाली अन्य फार्मेशनें इसके क्षेत्राधिकार के महत्वपूर्ण स्टेशन हैं।

कार्य


यह आयुक्तालय निम्नलिखित कार्य करता हैः

  • सीमा शुल्क नियम और अन्य संबंधित नियमों के उपबंधों को लागू करना।
  • निषिद्ध माल और मादक पदार्थों की तस्करी के निवारण एवं ऐसे मामलों को पता लगाने के लिए आसूचना एकत्रित करना।
  • सीमा शुल्क अधिनियम और अन्य संबंधित विधानों के तहत आयात/निर्यात शुल्क व अन्य उपकर एकत्रित करना।
  • विभिन्न अधिनियमों के तहत आयात/निर्यात पर निषेध का प्रर्वत्तन और प्रतिबंध।
  • सरकार की विभिन्न निर्यात प्रोत्साहन योजनाओं को लागू करना।
  • सीमा पर कार्यरत अन्य सुरक्षा एजेंसियाँ और जिला प्रशासन के साथ इस दृष्टि से सम्पर्क एवं समन्वय बनाकर रखना ताकि तस्करीरोधी कार्यो को प्रभावी और समन्वित ढंग से पूरा किया जा सके।
  • यात्रियों एवं व्यापार की सुगमता को सुनिश्चित करना।


Explore More